Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2006

ईदगाह

रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज का सूर्य देखो, कितना प्यारा, कितना शीतल है, यानी संसार को ईद की बधाई दे रहा है। गॉंव में कितनी हलचल है। ईदगाह जाने की तैयारियॉँ हो रही हैं। किसी के कुरते में बटन नहीं है, पड़ोस के घर में सुई-धागा लेने दौड़ा जा रहा है। किसी के जूते कड़े हो गए हैं, उनमें तेल डालने के लिए तेली के घर पर भागा जाता है। जल्दी-जल्दी बैलों को सानी-पानी दे दें। ईदगाह से लौटते-लौटते दोपहर हो जाएगी। तीन कोस का पेदल रास्ता, फिर सैकड़ों आदमियों से मिलना-भेंटना, दोपहर के पहले लोटना असम्भव है। लड़के सबसे ज्यादा प्रसन्न हैं। किसी ने एक रोजा रखा है, वह भी दोपहर तक, किसी ने वह भी नहीं, लेकिन ईदगाह जाने की खुशी उनके हिस्से की चीज है। रोजे बड़े-बूढ़ो के लिए होंगे। इनके लिए तो ईद है। रोज ईद का नाम रटते थे, आज वह आ गई। अब जल्दी पड़ी है कि लोग ईदगाह क्यों नहीं चलते। इन्हें गृहस्थी चिंताओं से क्या प्रयोजन! सेवैयों के लिए दूध ओर शक्कर घर में है या नहीं, इनकी बला…

मोटेराम जी शास्त्री

पण्डित मोटेराम जी शास्त्री को कौन नही जानता! आप अधिकारियों का रूख देखकर काम करते है। स्वदेशी आन्दोलने के दिनों मे अपने उस आन्दोलन का खूब विरोध किया था। स्वराज्य आन्दोलन के दिनों मे भी अपने अधिकारियों से राजभक्ति की सनद हासिल की थी। मगर जब इतनी उछल-कूद पर उनकी तकदीर की मीठी नींद न टूटी, और अध्यापन कार्य से पिण्ड न छूटा, तो अन्त मे अपनी एक नई तदबीर सोची। घर जाकर धर्मपत्नी जी से बोले—इन बूढ़े तोतों को रटाते-रटातें मेरी खोपड़ी पच्ची हुई जाती है। इतने दिनों विद्या-दान देने का क्याफल मिला जो और आगे कुछ मिलने की आशा करूं।
धर्मपत्न ने चिन्तित होकर कहा—भोजनों का भी तो कोई सहारा चाहिए।
मोटेराम—तुम्हें जब देखो, पेट ही की फ्रिक पड़ी रहती है। कोई ऐसा विरला ही दिन जाता होगा कि निमन्त्रण न मिलते हो, और चाहे कोई निन्दा करें, पर मै परोसा लिये बिना नहीं आता हूं। आज ही सब यजमान मरे जाते है? मगर जन्म-भर पेट ही जिलया तो क्या किया। संसार का कुछ सुख भी तो भोगन चाहिए। मैने वैद्य बनने का निश्चय किया है।
स्त्री ने आश्चर्य से कहा—वैद्य बनोगे, कुछ वैद्यकी पढ़ी भी है?
मोटे—वैद्यक पढने से कुछ नही होता, संसार मे विद्या…

Story of a Lazy Dog

... Master to his Dog -- " You will have to bark whenever you see some stranger " ... The Dog nodded first vertically (means yes normally) and then in a shrewd way, horizontally (means no normally) ... Dog is always prompt at food hours ...
Whenever we guys used to plan for somewhere or initiate some event, my friend, Pervez Iqbal used to say -- " Is kam ko kar liya jaye (Lets go on doing this work) ". The intent was clear. Suppose we had to watch some film, he used to say -- " Is film ko dekha jaye (Lets go on watching this movie) ". Usually watching movie means bringing some VCD to feed in Compu (which was supposed to be a tool which can do magic for our career). The intent of this guy was simple, let some person(other than him) bring the CD and he will have his cool position where he will sit and watch movie. ... And he usually succeeded ...
Many people think me as a very active person, who does not take rest for hours ... and ... well its enough Reetes…

Arundhati Roy: Back In the U.S.A.

Arundhati Roy symbolises to me a thinking person, thinking woman, a socialist. Here is an interview with her.Arundhati Roy: Back In the U.S.A. By , Democracy Now!
Posted on May 25, 2006, Printed on July 13, 2006
http://www.alternet.org/story/36643/
Editor's Note: This is an edited transcript of an interview with Arundhati Roy, from Amy Goodman's syndicated radio show, Democracy Now! Amy Goodman: Today, we spend the hour with acclaimed author and activist Arundhati Roy. Her first novel, The God of Small Things, was awarded the Booker Prize in 1997. Since then, Roy has devoted herself to political writing and activism. In India, she is involved in the movement opposing hydroelectric dam projects that have displaced thousands of people. In 2002, she was convicted of contempt of court in New Delhi for accusing the court of attempting to silence protest against the Narmada Dam project. She received a symbolic one-day prison sentence. She has also been a vocal opponent of the Indian gover…

My Points

Last several days were a transition phase. I have to shift my location (better say loci) from my Institute to some where in Bangalore. I have to complete final proceedings of my college (convocation is still left). I remember six years ago when I left my home, then I found my undergraduate college BIT Sindri, as my mother. Big Halls, big buildings, large area and dear some library were something I cannot forget. I owe much of my strength to BIT Sindri. My graduate Institute, IIITb behaved to me in the same way. However, here, my room, MH2-307 became my world. I liked this room too much( I was not frequent to my friends rooms, because I simply loved my room). Some of the points that I have noticed related to fields I have worked in are quoted below:-Jobs should be judged not only on the basis of work quality or money you get, but also on the basis of people you work with. You cannot say I can work with any person!!!Usually, the vast array of programs that comprise s…